General

क्या पुलिस हमारी मित्र नहीं है?

Inbook Foundation की ओर से चलाये जा रहे मेरा अपना पुस्तकालय के बच्चों ने इंडिया पुलिस स्टेशन का दौरा कर कार्यशैली को समझा

Handiya Police Station – District Harda in MP


इन जैसे और भी बहुत से सवाल समाज और हमारे बच्चों के मन में उठते रहते हैं। इन्हीं सवालों और पुलिस के लिए बनी हमारी धारणा को दूर करने के लिए हरदा जिले में इनबुक फाउंडेशन द्वारा संचालित पुस्तकालय के बच्चों को हंडिया पुलिस थाने की विजिट करायी गयी। थाना प्रभारी श्री सी. एस. सरियाम जी से • बच्चों ने कानून और सुरक्षा सम्बन्धित कई सवाल किये, बच्चों को थाना भ्रमण करवाया गया, महिला सुरक्षा के सम्बन्ध में श्री सरियाम जी द्वारा बच्चों को कानूनी पहलूओं पर विस्तार पूर्वक जानकारी दी गयी।

Students acquiring knowledge


बच्चों ने भी खुलकर अपने सवाल पूछे। एक दोस्ताना माहौल में थाना हांडिया के थाना प्रभारी महोदय एवं समस्त स्टाफ ने अपना समय देकर बच्चों को पुलिस कार्यप्रणाली समझाई। साथ ही बच्चों के साथ फोटो भी खिंचवा कर समाज को एक संदेश दिया कि पुलिस हम सबके लिए ही है और पुलिस से डरते न हुए अपनी शुभचिंतक समझें।


इनबुक फाउंडेशन थाना प्रभारी श्री सी.एम. सरियामजी और समस्त स्टाफ का आभार व्यक्त करता है।

Police officers briefing the kids about their role in society

इस अवसर पर प्रोत्साहन एज्युकेशन सोसायटी से श्री राजेश विशनोई जी, रितु उड़के, पंचायत सचिव श्री अशोक जी, प्रशिक्षक श्री गजानंद जी. “इनबुक फाउंडेशन से संजीव जैन” उपस्थित रहे।

Students getting a view of Police Lockup

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button