News

महज 10 रुपये में दिहाड़ी करने वाले शख्स ने बनाई 730 करोड़ की कंपनी, जानिये सफलता का राज

अक्सर कहा जाता है कि इंसान अपनी किस्मत उपर वाले से लिखवा कर लाता है. लेकिन जीवन में कई लोग ऐसे भी होते है जो उपर वाले का लिखा भी मोड देते है. अपनी मेहनत और कड़े परिश्रम के बल पर.

ऐसा ही एक नाम है जो आज एक ब्रांड है लेकिन उसके इस नाम बनने के पीछे की कहानी भी उतनी ही पीड़ादायक है. मुस्तफा पीसी आज वो नाम है तो जिसे किसी पहचान की मोहताज नहीं है.

केरल के एक छोटे से गांव सुदूर में जन्में मुस्तफा का जीवन बेहद गरीबी में गुजरा. उनके पिता एक दिहाड़ी मजदूर थे और अपने बच्चों को शिक्षित करने का सपना देखा करते थे. बेहदल गरीबी के कारण मुस्तफा अपने पिता का हाथ बंटाना चाहता था जिसके लिए कक्षा 6 में असफल होने के बाद स्कूल छोड़ने का फैसला किया और खेतों में पिता के साथ काम करना शुरु कर दिया.

अक्सर अपने इंटरव्यू में मुस्तफा बताते है कि उनके लिए दिन में तीन बार भोजन करना तो दूर सोचना भी बड़ी बात थी क्योकि बतौर देहाड़ी मुस्तफा को बमुश्किल 10 रुपये की दैनिक मजदूरी मिलती थी. वे आज भी कहते है कि अभी भी खाना शिक्षा से अधिक महत्वपूर्ण है.

आईडी फ्रेश फूड नाम की कंपनी खड़ी करने वाले मुस्तफा बताते है कि शिक्षक ने उनको स्कूल में वापस आने में मदद की जिसके बाद मजदूर के बेटे को अच्छी तनख्वाह वाली नौकरी मिली और बाद में एक कंपनी शुरू की जो आज देश में अपनी तरह की सबसे सफल कंपनी में से एक है.

मुस्तफा बताते है कि जब उन्हें पहली बार 14000 की सैलरी मिली और वे उसे अपने पापा के पास लेकर गए तो उनके पापा रोते हुए कहने लगे आज तुमने मुझसे ज्यादा कमाया है.

आखिरकार मुस्तफा को विदेश में नौकरी मिली जिसके बाद उन्होंने अपने पिता का सारा कर्ज चुकता कर दिया था. लेकिन मुस्तफा अच्छी नौकरी होने के बावजूद भी खुद का कुछ करना चाहते थे तो उन्होंने 50000 के निवेश से फूड कंपनी शुरु कर दी.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button